Loading...

एमपीपीएससी के नए सिलेबस नवीन पाठ्यक्रम के अनुसार मैंस या मुख्य परीक्षा में अच्छा उत्तर कैसे लिखें

Follow Us @ Telegram

How to write good answer in mppsc mains/ mppsc answer writting

सर्वप्रथम यह जानना आवश्यक है कि वर्ष 2020 से मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा एमपीपीएससी का प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा के सिलेबस में बदलाव किया गया है इसके अंतर्गत आयोग द्वारा सिलेबस को पुनर संयोजित किया गया है जिसके तहत नवीन पाठ्यक्रम में प्रश्नों की संख्या और उनके उत्तरों की शब्द संख्या में पर्याप्त अंतर स्थापित किया गया है साथ ही आयोग द्वारा कुछ नए भागों को जोड़ा गया है जिसके अंतर्गत अगर हम देखें तो आयोग द्वारा 15 से 20% नया पाठ्यक्रम जोड़ा गया है बाकी पुराने ही पाठ्यक्रम को तार्किकता प्रदान करते हुए विभिन्न प्रश्न पत्रों में समायोजित किया गया है यहां यह देखना आवश्यक है कि आयोग ने क्या बदलाव किए हैं और उन किए गए बदलावों में मुख्य परीक्षा उत्तर लेखन के संदर्भ में क्या रणनीति अपनाई जानी चाहिए इस ब्लॉग के माध्यम से हम यह समझने का प्रयास करेंगे कि किस प्रकार रणनीति को अपनाते हुए हम कम शब्दों में एक बेहतर उत्तर लिख सकते हैं साथ ही उसमें हम कैसे अच्छे अंक अर्जित कर सकते हैं इस हेतु कुछ रणनीति आपके लिए चरणबद्ध ढंग से प्रस्तुत की जा रही है अतः प्रत्येक परीक्षार्थी जो मुख्य परीक्षा की तैयारी या कहें कि एमपीपीएससी की तैयारी में जुड़ा हुआ है आवश्यक रूप से रहे मुख्य परीक्षा के आंसर राइटिंग को फोकस करें क्योंकि अब यह मैटर नहीं करता कि आपने  कितना अध्ययन किया है बल्कि यह मैटर करता है कि आपने कितनी रणनीति अपनाई है और उस रणनीति का आपने अपने उत्तर लेखन में किस प्रकार समावेश किया है साथ ही शब्द सीमा का आवश्यक पालन किया है अथवा नहीं।

mppsc.org

एमपीपीएससी मैंस आंसर राइटिंग स्ट्रेटजी 

1. सर्वप्रथम यह जानना आवश्यक है कि मुख्य परीक्षा में कुल 6 पेपर है, जिनमें शुरुआती दो पेपरों में दो भाग हैं और दो पार्ट A और पार्ट B और अंतिम चार पेपरों में केवल एक भाग यह ध्यान रखना आवश्यक है कि प्रत्येक पेपर के प्रत्येक भाग की रणनीति प्रथक प्रथक होगी जिसमें शुरुआती तीन पेपरों की रणनीति में कुछ समानता होगी चौथा पेपर जो जो नीतिशास्त्र का है उसके लिए अलग रणनीति हिंदी के लिए अलग रणनीति पेपर 5 और निबंध के लिए अलग रणनीति प्रत्येक विद्यार्थी को यह समझना होगा कि उसे परीक्षा के प्रत्येक चरण के प्रत्येक पेपर में समान रूप से ध्यान देना होगा तभी वह आयोग में उच्च पद पर चयनित हो सकता है।

2 शुरुआती तीन पेपरों में प्रत्येक भाग में पांच यूनिट है जैसे पहले पेपर में भाग 1 मैं इतिहास है भाग 2 में भूगोल है पेपर 2 में भाग 1 में भारतीय राजव्यवस्था अर्थात संविधान राजनीतिक विचारक तथा कुछ लोक प्रशासन की आधारभूत अवधारणाए शामिल है कथा भाग 2 में अर्थव्यवस्था तथा समाजशास्त्र से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे वही पेपर 3 में विज्ञान और तकनीकी है जो सामान्य तोर पर एमपीपीएससी के हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों के लिए एक चुनौती है जिसमें केवल एक ही भाग है और कुल यूनिटों की संख्या 10 है इसके अंतर्गत भौतिकी रसायन जीव विज्ञान कंप्यूटर गणित विज्ञान प्रौद्योगिकी ऊर्जा पर्यावरण भूगर्भ शास्त्र और स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर प्रश्न पूछे जाएंगे।

3 कैसे प्रश्न पूछे जाएंगे इसके अंतर्गत नवीन पाठ्यक्रम के अनुसार पहले तीन प्रश्न पत्रों में प्रत्येक यूनिट से 30 नंबर के प्रश्न पूछे जाएंगे——-

जिसमें तीन प्रश्न तीन नंबर के दो प्रश्न पांच नंबर के और एक प्रश्न 11 नंबर का पूछा जावेगा तथा शब्द सीमा क्रमशः 10 शब्द 50 शब्द और 200 शब्द निर्धारित की गई है साथ ही यह सभी उत्तर निश्चित स्थान जो प्रश्न उत्तर पुस्तिका में दिए जाएंगे उसमे लिखना अनिवार्य होगा अतः उत्तर लेखन में ओवर राइटिंग न्यूनतम काटा पीटी न्यूनतम हो और केवल सही तथ्यों का समावेश किया जाए।

4 तीन नंबर के प्रश्न की रणनीति

इन प्रश्नों के लिए चार लाइन नियत हैं जिसमें उत्तर लिखा जाना है अतः किसी भी प्रश्न में आवश्यक रूप से न्यूनतम चार से पांच फैक्ट अवश्य लिखना है  तभी 3 में से 3 अंक मिलेंगे।

Example ~

प्रश्न. 42 वें संविधान संशोधन द्वारा उद्देशिका में किन शब्दों को  जोड़ा गया(mppsc mains 2020)

उत्तर. वर्ष 1976 इंदिरा गांधी सरकार द्वारा आपातकाल के दौरान।

शब्द• समाजवादी पंथनिरपेक्ष और अखंडता ।

विशेष ● संसद प्रस्तावना में संशोधन कर सकती हैकेशवानंद भारती केस 1973

5•               5 अंकों के प्रश्न की रणनीति

इसमें नियत शब्द सीमा 50 शब्द है और नियत स्थान लगभग आधे पेज से थोड़ा ज्यादा इन प्रश्नों में इन प्रश्नों को लिखने में प्रश्न की प्रकृति के अनुसार उत्तर पॉइंट्स में पैराग्राफ में फ्लो चार्ट या वेन डायग्राम के माध्यम से लिखना होगा साथ ही केवल मुख्य बातों का समावेश करना होगा अर्थात प्रश्न का उत्तर टू द प्वाइंट होना चाहिए इसका कारण यह है कि स्थान निश्चित है और मुख्य बातों का समावेश पहले करते हुए उत्तर को सटीक रूप से प्रस्तुत किया जावे इस हेतु शब्द संख्या वाक्य विन्यास पर विशेष ध्यान दिया जाए साथ ही वर्तमान समय में जानकारी आधारित इंफॉर्मेशन बेस प्रश्नों की संख्या में लगातार कमी आ रही है और एनालिटिकल प्रश्नों की संख्या निरंतर बढ़ रही है जिसमें ओपिनियन आधारित प्रश्न पूछे जा रहे हैं अतः आवश्यक रूप से सिलेबस के प्रत्येक भाग में आपके द्वारा उसके सभी डायमेंशन को कवर करना आवश्यक है साथ ही प्रत्येक टॉपिक पर ब्रेनस्टॉर्मिंग अर्थात विचार विन्यास करना सोचना अत्यंत आवश्यक हो गया है इस प्रकार के प्रश्नों के लिए लेखन शैली में निरंतर अभ्यास करना जो तय समय और कई शब्द सीमा में हो कारगर सिद्ध होगा साथी विभिन्न प्रकार के प्रश्नों को हल करना विविधता पूर्वक उत्तर लेखन अभ्यास एक बेहतर रणनीति होगी इस बात का ध्यान देना होगा कि इस श्रेणी के प्रश्नों में कुछ प्रश्न स्टैंडर्ड फॉरमैट अर्थात इंट्रोडक्शन बॉडी और कंक्लूजन को फॉलो करना होगा और कुछ प्रश्नों को सीधे-सीधे लिखना होगा अर्थात प्रश्न की मांग के अनुसार इंट्रोडक्शन में अधिकतम 1 या 2 लाइन और कंक्लूजन को  भविष्य उन्मुख दृष्टिकोण से स्थापित किया जा सकता है जो जांचकर्ता के मन में एक सकारात्मक मनोवृति का निर्माण करेगा कुछ प्रश्नों को फ्लो चार्ट या व्हेन डायग्राम के माध्यम से प्रदर्शित किया जा सकता है।

6• 11 अंकों के प्रश्नों की रणनीति  (शब्द सीमा 200)

जिसके लिए प्रश्न उत्तर पुस्तिका में तीन पेज दिए जाएंगे इसकी इसकी रणनीति के अंतर्गत इंट्रोडक्शन बॉडी और कंक्लुजन के फॉर्मेट को फॉलो करना होगा साथ ही प्रश्न के प्रत्येक आयाम या डायमेंशन को कवर करना होगा साथ ही बदलते परिदृश्य में प्रश्न ओपिनियन आधारित आ रहे हैं या विवेचना पर आधारित प्रश्न पक्ष विपक्ष में तर्क करना आदि प्रश्न पूछे जा रहे हैं इस हेतु आवश्यक है कि प्रश्न में पूछे गए शब्दों को ध्यान से समझा जाए और उनके आधार पर उत्तर लिखे जाएं जैसे वर्णन कीजिए परीक्षण कीजिए विवेचना कीजिए पक्ष विपक्ष में तर्क प्रस्तुत कीजिए भविष्य उन्मुख राह बतलाइए आदि शब्दों का ध्यान रखा जाए इसके अतिरिक्त जो भी प्रश्न पूछे जा रहे हैं हम उन प्रश्नों के प्रत्येक पक्ष को अंडर लाइन करें और अंडर लाइन करते हुए उसके संभावित पक्षियों का समावेश करने का प्रयत्न करें कुछ प्रश्न विवरणात्मक प्रकृति के भी हैं जिनका उत्तर रक्षिता सिलेबस को पढ़कर आसानी से दिया जा सकता है उनमें ध्यान रखें जैसे यदि कोई प्रश्न राज व्यवस्था से संबंधित है तो उसमें आवश्यक तौर पर संवैधानिक परिपेक्ष का उल्लेख करें या  अर्थव्यवस्था से संबंधित है तो आंकड़ों का उल्लेख करें एथिक्स से संबंधित है तो कोटेशंस का इस्तेमाल करें भूगोल से संबंधित है तो डायग्राम अवश्य बनाएं इतिहास से संबंधित है तो यदि वह विषय या प्रश्न वर्तमान परिपेक्ष से जुड़ सकता है तो उसे जोड़ें टॉपिक की इंटरलिंकिंग करें इस प्रकार 11 नंबर के प्रश्नों को बेहतर उत्तर लिखने का प्रयास करें।

अत्यंत महत्वपूर्ण बात

1. सर्वप्रथम 3 अंकों वाले प्रश्नों का चयन करें और उसमें केवल उन्हीं प्रश्नों के उत्तर दें जो आपको आते हैं तीन नंबर वाले प्रश्नों में गलत बिल्कुल भी ना लिखें क्योंकि यह उत्तर परीक्षक के मन में आपके प्रति सकारात्मक अथवा नकारात्मक मनोविज्ञान का निर्माण करते हैं अगर आप सही लिखेंगे तो सकारात्मक मनोविज्ञान का निर्माण होगा और गलत लिखेंगे तो वह समझ जाएगा कि आप उसे घुमाने का प्रयास कर रहे हैं जो उसके मन में आपके प्रति नकारात्मक मनोवृति का निर्माण करेगा।

2.तीन नंबर के प्रश्नों के बाद 11 नंबर वाले प्रश्नों को लिखें और इनमें कोशिश करें कि अपना सर्वश्रेष्ठ दें क्योंकि इन प्रश्नों में अधिकतम नंबर लाने की संभावना होती है अर्थात तीन नंबर वाले और 11 नंबर वाले प्रश्नों में सर्वाधिक नंबर लाने की क्षमता है अतः इन पर अधिक फोकस करें।

3.अंत में पांच नंबर वाले प्रश्नों को हल करें और प्रयास करें की सभी प्रश्न समान समय वितरण के आधार पर सॉल्व हो वह भी तय समय सीमा में।

4. प्रत्येक विद्यार्थी को यह बात की समझ होनी चाहिए की वह सभी प्रश्नों को हल नहीं कर सकता और अगर कर सकता भी है तो अपनी सर्वोत्तम गुणवत्ता के साथ नहीं कर पाएगा अतः 50 से 60% प्रश्न सर्वोत्तम या एक्सीलेंट केटेगरी के हो 25 से 35%  उत्तम हो तथा शेष प्रश्न अच्छे या गुड क्वालिटी के हो।

5.यदि कोई प्रश्न नहीं बनता है तो उसमें अधिक समय ना दें और उस प्रश्न के बचे हुए समय को ऐसे प्रश्न में दें जो आप से बेहतर बनता हो ताकि आप उसमें गुणवत्ता उन्नयन कर सकें ना बनने वाले प्रश्न पर समय देना उचित रणनीति नहीं होगी।

6.क्या एमपीपीएससी मेंस में अच्छे उत्तर लिखने का कोई शॉर्टकट या ट्रिक है?

Mains आंसर राइटिंग के लिए कोई शॉर्टकट अपनाना उचित रणनीति नहीं है , साथ ही गुणवत्ता और स्तरीय उत्तर केवल और केवल निरंतर अभ्यास या प्रैक्टिस के माध्यम से ही संभव है साथ ही एक नकारात्मक शब्द होगा इस हेतु रणनीति अवश्य काम आ सकती है और उपरोक्त वर्णित रणनीति का यदि आप निरंतर पालन करते हैं निरंतर इस रणनीति से अभ्यास शील रहते हैं तो निश्चित ही मुख्य परीक्षा में आप 850 अंक ला पाएंगे।

तो क्या करना चाहिए

अपने कुल अध्ययन समय का न्यूनतम 30 मिनट प्रतिदिन लेखन अभ्यास करें निश्चित समय सीमा में और निश्चित शब्द सीमा में लेखन अभ्यास का पालन करें संभव हो तो ऐसी उत्तर पुस्तिका में लिखें जो आयोग द्वारा दी जाने वाली प्रश्न उत्तर पुस्तिका के समतुल्य हो अच्छे पेन का इस्तेमाल करें जरूरी नहीं है कि अच्छा पेन केवल महंगा से अच्छा बन जाए जिस भी पैन में आप स्वयं को सहज मानते हैं उस पेन से लिखें और मुख्य परीक्षा में भी उसी पेन से निरंतर लेखन करें।

 

JOIN US @ TELEGRAM https://t.me/mppsc_content

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may use these <abbr title="HyperText Markup Language">html</abbr> tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

*

error: Content is protected !!!!!

Join Our Online/Offline Classes Today!!!!!
By Dr. Ayush Sir!!!!!

For More Details Please
Call us at 7089851354
Ask at Telegram https://t.me/mppsc_content