Loading...

भारत के प्रमुख वैज्ञानिक संस्थान एवं उनकी उपलब्धियां

Follow Us @ Telegram

भारत के प्रमुख वैज्ञानिक संस्थान एवं उनकी उपलब्धियां

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन(ISRO)

  • स्थापना-15 अगस्त 1969
  • मुख्यालय-बेंगलुरु ,कर्नाटक संस्थापक- विक्रम अंबालाल साराभाई।
  • धयेय वाक्य-मानव जाति की सेवा में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी।
  • डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा के प्रयासों से 1962 में अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए इसरोस्पार का गठन किया गया था।
  • इसरो ने एक रॉकेट से 103 नैनो उपग्रहों को 30 मिनट के भीतर प्रवेश कर गया था।
  • भारत के मार्स आर्बिटर मिशन (MOM)ने पहले ही प्रयास में लाल ग्रह की कक्षा में स्थापित होने का नया इतिहास रचित कर दूसरे ही
  • दिन मंगल ग्रह की पहली तस्वीरें भेजी। मंगल मॉम ने मंगल ग्रह तक पहुंचने के लिए 9 महीने में 6.5 करोड़ किलोमीटर की दूरी तय की है।
  • भारत एशिया का पहला और दुनिया का चौथा देश बन गया है जिसने मंगल ग्रह पर गया अमेरिका, रूस और यूरोपीय देशों के बाद अंतरिक्ष एजेंसी में भारत अत्याधुनिक स्क्रैमजेट रॉकेट इंजन का सफल परीक्षण करने वाला चौथा देश बन गया है।
  • GSLV D-5 रॉकेट स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन टेक्नोलॉजी युक्त इसरो ने 5 जनवरी 2014 के GSLV D-6 द्वारा जीसैट-6 मिशन और
  • 27 सितंबर 2015 GSLV D-6 का सफल प्रक्षेपण किया है।
  • भारत अमेरिका ,रूस ,जापान, चीन के बाद विश्व का छठवां देश बन गया है जिसके पास अपना स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन है।
  • भारत ने chandrayaan-2 को 22 जुलाई 2019 को श्री हरी कोटा रेंज से सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया है।

वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR)

  • स्थापना-26 सितंबर 1942 संस्थापक -डॉ ए रामास्वामी मुदालियर और डॉक्टर शांति स्वरूप भटनागर के प्रयासों से।
  • इसका वित्तीय प्रबंधन भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा किया जाता है।
  • प्रधानमंत्री सीएसआईआर के अध्यक्ष हैं।
  • मुख्यालय- नई दिल्ली
  • विकसित दृष्टि प्रणाली के अंतर्गत विमान पायलटों को सुरक्षित उड़ान भरने और हवाई जहाज उतारने में सुविधा होती है।
    भारत का पहला जायरोट्रॉन विकसित किया गया हैं।
  • सीएसआईआर ने ध्वनि (Detection and Hit Visualization using Acoustic N-wave Identification DHVANI) का भी विकास किया है। जिसके तहत सटीक निशाना लगाने के लिए प्रणाली तैयार की है। इसे भारतीय सेना में तैनात किया गया है।
  • स्वास्थ्य क्षेत्र CSIR ने बीजीआर-34 नामक मधुमेह की दवा बनाई है अश्वगंधा और एनएमआइटीएलआइ-101 की ऐसी किसने विकसित की है जिसकी पैदावार अधिक है।
  • सीएसआईआर ने केंद्रीय औद्योगिक अनुसंधान संस्थान लखनऊ द्वारा गर्भ निरोधक दवा सेंटक्रोमान का भी विकास किया है ।
  • वर्ष 2019 ICAR द्वारा मोबाइल ऐप KISAAN लांच किया गया जो देश के सभी किसानों को 12 भाषाओं में कृषि संबंधित सुविधा उपलब्ध कराएगा।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR)

  • स्थापना-16 जुलाई 1920
  • सोसायटी रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1860 के तहत
  • मुख्यालय -नई दिल्ली
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद पूर्व में नाम इंपीरियल काउंसलिंग ऑफ एग्रीकल्चर रिसर्च रखा गया था।
  • केंद्रीय कृषि मंत्री ICAR के पदेन अध्यक्ष होते हैं।
  • इसका उद्देश्य कृषि अनुसंधान के क्षेत्र में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कार्यक्रमों को प्रोत्साहन करना और उनके बारे में शिक्षित करना है।

भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (ICMR)

  • भारत में आयुर्विज्ञान अनुसंधान को वित्तीय सहायता प्रदान करने और समन्वय स्थापित करने के लिए वर्ष 1911 में भारत सरकार द्वारा इंडियन रिसर्च फंड एसोसिएशन (IRFA)की स्थापना की गई।
  • 1949 में इसके कार्यों का विस्तार किया गया ।
  • मुख्यालय- रामलिंगनस्वामी भवन, अंसारी नगर ,नई दिल्ली
  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री इसके पदेन अध्यक्ष होते हैं।
  • यह संस्था भारत में जैव चिकित्सा अनुसंधान हेतु निर्माण समन्वय और प्रोत्साहन के लिए सिर्फ संस्था है।
  • यह विश्व के सबसे पुराने आयुर्विज्ञान संस्थान में से एक है।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन DRDO

  • स्थापना-1958
  • ध्येय वाक्य- बलस्य मूल विज्ञानम मुख्यालय-दिल्ली
  • यह विभाग रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार जो रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग का सचिव होता है, उसके अधीन कार्य करता है।
  • वर्तमान में इस संस्थान का 60 प्रयोगशालाओं का विस्तृत नेटवर्क के रूप में फैला है।
  • मिसाइल अग्नि-5 के शानदार प्रक्षेपण से संगठन ने नई ऊंचाई को छुआ है।यह लंबी दूरी तक मार करने वाली सामरिक मिसाइल है।
  • भारत की पहली स्वदेशी परमाणु शक्ति युक्त पनडुब्बी ‘आईएनएस अरिहंत’ यह समुद्री परीक्षणों के लिए तैयार है।
    लंबी दूरी की क्रूज मिसाइल ‘निर्भय’ अपनी प्रारंभिक उड़ान भर चुकी है व मध्य दूरी की वायु प्रणाली से विकसित ‘आकाश’ एक और शानदार उपलब्धि है।
  • जमीन से जमीन तक मार करने वाली नई प्रहार मिसाइल देर 150 किलोमीटर से अधिक दूरी तक गोले फेंक सकती है और इसी तरह से ‘पिनाका’ रॉकेट और ‘पृथ्वी’ मिसाइल के अंतर को दूर करती है।
  • DRDO ने रक्षा सेनाओं की आवश्यकताओं के लिए हाल ही में MI-17 हेलीकॉप्टर के लिए हल्के हथियारों का निर्माण और भारतीय
  • नौसेना के 30 हजार टन के स्टील का उत्पादन शामिल है।
  • डीआरडीओ ने मानव रहित दूर से संचालित ‘दक्ष’ जो बम गिराने की दिशा में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।
  • एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम (IGMDP) यह डीआरडीओ का एक मुख्य प्रोजेक्ट है स्थापना 1982-83 डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के द्वारा की गई।
    IGMDP के तहत विकसित मिसाइल
    पृथ्वी -सतह से सतह में मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल।
    अग्नि- सतह से सतह पर मार करने वाली मध्यम दूरी वाली बैलिस्टिक मिसाइल।
    त्रिशूल -सतह से आकाश में मार करने वाली कम दूरी वाली मिसाइल।
    आकाश- सतह से आकाश में मार करने वाली सक्षम दूरी मिसाइल।
    नाग- तीसरी पीढ़ी की टैक भेदी मिसाइल

राष्ट्रीय वायुमंडलीय अनुसंधान प्रयोगशाला

  • स्थापना 1992
  • मुख्यालय -तिरुपति, आंध्र प्रदेश भारत के अंतरिक्ष विभाग, भारत सरकार द्वारा प्रायोजित एक स्वायत्त संस्थान।
  • यह मुख्यता वायुमंडल के शोध से जुड़ा हुआ है।
  • रडार, निन्म वायुमंडलीय वायु प्रोफाइल,प्रकाशीय वर्षा-मापी, दोहरी आपआवृत्ति वाले जीपीएस अभिग्राही का प्रचालन करता है।

भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला PRL-physical Research Laboratory

  • स्थापना -1947
  • अंतरिक्ष विभाग द्वारा सहयोग प्राप्त यह स्वायत्त संस्था नवरंगपुरा, अहमदाबाद स्थित ।
  • यह प्रयोगात्मक प्रयोगात्मक सैद्धांतिक भौतिक विज्ञान, खगोल विज्ञान खगोल भौतिकी, पृथ्वी, ग्रह एवं वायुमंडल विज्ञान के क्षेत्र में बुनियादी अनुसंधान में संलग्न एक प्रमुख संस्थान है।

सेमीकंडक्टर प्रयोगशाला Semi Conductor Laboratory

  • स्थापना -1983
  • यह अंतरिक्ष विभाग के अंतर्गत एक सोसायटीके रूप में कार्य करता है।
  • उद्देश्य -अर्धचालक प्रौद्योगिकी, सूक्ष्मा विद्युत यांत्रिकी अनुसंधान विकास को प्रारंभ करने, सहायता दिशा निर्देशन एवं समन्वय संस्था संबंधित प्रौद्योगिकियों को संचालित करता है ।

उत्तर-पूर्वी अंतरिक्ष उपयोग केंद्र – North Eastern Space Applications Center

  • स्थापना मेघालय के शिलांग जिले के अंतर्गत ”उमियम” नामक स्थान पर स्थापना वर्ष 2000 में हुई थी।

भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान

  • Indian institute of space science and technology
  • स्थापना-14 सितंबर, 2007
  • संस्थापक -इसरो के तत्कालीन अध्यक्ष डॉक्टर जी माधवन नायर मुख्यालय- तिरुवंतपुरम
  • भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रमों की मांगों को पूर्ण करने के लिए अंतरिक्ष विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी गुणवत्ता वाली शिक्षा के उद्देश्य से स्थापित किया गया है ।

एंट्रिक्स कॉरपोरेशन लिमिटेड Antrix Corporation Limited

  • स्थापना- सितंबर 1992
  • स्थान- बेंगलुरु
  • अंतरिक्ष विभाग के प्रशासनिक नियंत्रण के अधीन भारत सरकार का एक पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी है इसरो का वाणिज्य एवं वितरण का कार्य देखने का काम करती है।
  • इसे 2007-08 में लघु रत्न कंपनी का दर्जा भारत सरकार द्वारा दिया गया है ।

न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL)

  • स्थापना- 6 मार्च 2019
  • न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड द्वारा बेंगलुरु में यह अंतरिक्ष टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में निजी उद्यम को बढ़ावा देने का कार्य करती है।

विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र

  • स्थापना -1962
  • मुख्यालय- तिरुवनंतपुरम, केरल थुंबा स्थित थुंबा भूमध्य रेखिए रॉकेट प्रक्षेपण केंद्र के नाम से भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक
  • डॉ विक्रम साराभाई के नाम पर बीएसएससी (VSSC)रखा गया है।
  • इसरो प्रक्षेपण यान विकास केंद्र का सबसे महत्वपूर्ण केंद्र है।
  • अभी तक के सभी प्रक्षेपण यानो तथा एसएलबी, पीएसएलवी एवं जीएसएलवी इसी केंद्र से ही विकसित किए गया हैं।

सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र

  • श्रीहरिकोटा Satish Dhawan space centre ,Sriharikota- SDSC
  • स्थापना- 1 अक्टूबर 1971
  • मुख्यालय -श्रीहरीकोटा जिला- नेल्लौर ,आंध्र प्रदेश
  • इसरो का प्रमुख प्रक्षेपण केंद्र, जो आंध्रप्रदेश के नेल्लोर जिले की पुलीकट झील के पूर्वी तट पर स्थापित है ।
  • इसका पुराना नाम तथा 5 सितंबर 2002 को नाम बदल कर सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र रखा गया ।

इसरो उपग्रह केंद्र

  • बैंगलोर स्थापना -11 मई 1972
  • मुख्यालय -बैंगलोर
  • यह अंतरिक्ष कार्यक्रम के विभिन्न वैज्ञानिक प्रौद्योगिकी और व्यावहारिक उपयोग से संबंधित मित्रों के लिए स्वदेशी उपग्रह परियोजना पर कार्य करता है।

द्रव्य नॉर्दर्न प्रणाली केंद्र  – Liquid propulsion system centre+LPSC

  • मुख्यालय -तिरुअनंतपुरम
  • इस केंद्र के उपग्रह प्रक्षेपण यान और उपग्रह के लिए द्रव ईधन चलाने वाली चालक नियंत्रण प्रणाली और इंजनों की डिजाइन विकास का कार्य किया जाता है।

मुख्य नियंत्रण सुविधा – Master control facility-MCF

  • स्थापना- 1982 हासन, कर्नाटक
  • 2005 भोपाल, मध्य प्रदेश मुख्यालय- हासन ,कर्नाटक व भोपाल ,मध्य प्रदेश
  • इनसेट उपग्रहों के प्रक्षेपण के बाद की सभी गतिविधियां जैसे उपग्रह की कक्षा में स्थापित करना उपग्रह का संपर्क स्थापित करना नियंत्रण एवं निगरानी कार्य कर्नाटक से किया जाता है।

इसरो टेलीमेट्री निगरानी एवं नियंत्रण नेटवर्क

  • मुख्यालय व नियंत्रण केंद्र- बेंगलुरु इसके द्वारा प्रक्षेपण यानो एवं उपग्रह मिशनों तथा अन्य अंतरिक्ष एजेंसियों को टेलीमेट्री निगरानी और नियंत्रण सुविधा प्रदान की गई है ।

राष्ट्रीय दूर संवेदी केंद्र, हैदराबाद National remote sensing centre, Hyderabad

  • स्थापना -1974
  • मुख्यालय -हैदराबाद
  • अंतरिक्ष विभाग के अंतर्गत कार्यरत।
  • यह राष्ट्रीय दूर संवेदी एजेंसियों का ही एक अंग है ।

इंडियन डीप स्पेस नेटवर्क (IDSN ) बंगलुरु

  • नोडल एजेंसी -भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन
  • मुख्यालय- बेंगलुरु (कर्नाटक )
  • स्थापना -2008
  • उद्देश- भारत के ग्रहों के अंतरिक्ष यान मिशन के लिए एंटीना की मदद ली जाती है।

इंडियन स्पेस साइंस टाटा सेंटर (ISSDC)

  • नोडल एजेंसी – भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन
  • स्थापना- 2008
  • मुख्यालय -बेंगलुरु

Join Us @ Telegram https://t.me/mppsc_content

Disclaimer – The above article is compiled by the member of team mppsc.org from various sources available online and offline, while the writing expression is given by the members of team mppsc.org . Moreover the article is solely for instructional / educational purpose only, which is free with no subscription charges on this platform and does not intend to cause any copyright infringement. If anyone has any issue regarding the same email us – team@mppsc.org or mppsc.org@gmail.com describing your rights (with valid proof attached in pdf format) to unpublish the article or to mention credit.
error: Content is protected !!!!!

Join Our Online/Offline Classes Today!!!!!
By Dr. Ayush Sir!!!!!

For More Details Please
Call us at 7089851354
Ask at Telegram https://t.me/mppsc_content